उत्तर प्रदेश में गाय की हत्या के लिए दो व्यक्तियों को पकड़ा गया है – घटना गोंडा के थाना कटरा बाज़ार के गॉंव देवा पसिया भटपुरवा की है, 1 October रात 12 बजे घटी इस घटना ने पुलिस की सूझबूझ से गोंडा को जलने से बचा लिया ! एडिश्नल SP गोंडा ने गिरफ्तार रामसेवक और मंगल दीक्षित पर रासुका की कार्यवाई करने का आश्वासन दिया है !!

आरोपी – राम सेवक दीक्षित और मंगल दीक्षित, को गिरफ्तार कर लिया गया है।

उस जगह से एक व्यक्ति गुजर रहा था, जिसने राम सेवक दीक्षित और मंगल दीक्षित को गाय को काटते हुये देखा और तुरंत ही पुलिस को फ़ोन कर दिया |

पुलिस मौके पर पहुंची और राम सेवक दीक्षित को अपने हाथों पर खून और तेज धार वाले हथियार के साथ रंगे हाथ पकड़ा गया|

इसका उद्देश्य एक दंगे को भड़काना था:-

दयालु, वहीं का रहने वाला [एक हिंदू आदमी] था,जिसने ये सब देखा और पुलिस को 100 पे कॉल करके सूचना दी । नहीं तो ये बहुत बड़े दंगे का  कारण हो सकता था। आखिरकार, ऐसे किसी भी मामले में, मुस्लमान ही दोषी होता है ।

अगर घटना की आगे की सोचे तो किसने विश्वास किया होता की ये मुसलमानो ने नहीं किया है।

दशहरा, दुर्गापूजा, मुहर्रम, गॉंधी जयंती जैसे महत्वपूर्ण त्यौहारों से तनाव तनाव से गुज़र रहे समाज के लिये ये घटना कितनी भयावह हो सकती थी, अगर असली गुनहगार मौके से ना पकडे जाते तो आप अंदाज़ा लगाइये कि इल्ज़ाम मुललमानों पर जाता और शायद दंगा भी भडक सकता था !

जो भी हो, हम उम्मीद करते है की पुलिस के जांच के बाद सब चीज़ो का खुलासा हो जायगा क्योंकि राम सेवक दीक्षित और मंगल दीक्षित के दिमाग में क्या चल रहा था।

इमरान प्रतापगढ़ी ने भी इसकी जानकारी अपने फेसबुक वाल पर शेयर की

रामसेवक दीक्षित, और मंगल दीक्षित ने गॉंव के ही गणेश प्रसाद का बछडा खोलकर उसका गला काट दिया, एक चश्मदीद हिंदू भाई ने इसे …

Imran Pratapgarhi 发布于 2017年10月2日

गोंडा पुलिस ने इस घटना को Twitter पर Confirm किया

फ़िलहाल पुलिस ने आरोपी पर “इस प्रकरण में अभियुक्तों के खिलाफ धारा 295A,153A, 505b  भादवि व 3/8 गोवध निवारण अधिनियम अभियोग पंजीकृत कर माननीय न्यायालय रवाना किया गया।”

इसे खूब शेयर कीजिए और लोगों तक इनकी सच्चाई को पहुंचाइए